You can find notes,question and quiz on various topic in Hindi. India Gk. Notes

Chambal Nadi PDF – चम्बल नदी और इसकी सहायक नदियाँ

उपनाम – बारहमासी, कामधेनु, चर्मण्वती

राजस्थान की सबसे अधिक लम्बी नदी चम्बल नदी का उद्गम मध्य-प्रदेश में महु जिले में स्थित जानापाव की पहाडियों से होता है। यह नदी दक्षिण से उत्तर की ओर बहती हुई राजस्थान के चितौड़गढ़ जिले मे चैरासीगढ़ नामक स्थान पर प्रवेश करती है और कोटा व बंदी जिलों में होकर बहती हुई सवाई माधोपुर, करौली, धौलपुर, जिलों में राजस्थान व मध्य-प्रदेश के मध्य सीमा बनाती हैराजस्थान की एकमात्र नदी जो अन्तर्राज्यीय सीमा का निर्माण करती है

राजस्थान और मध्य प्रदेश के मध्य चम्बल घाटी परियोजना बनाई गयी है। इस परियोजना में चार बांध बनाए गये है

गांधी सागर बांध मंदसौर मध्य प्रदेश

राणा प्रताप सागर बांध (चितौड़, राजस्थान) राजस्थान का सबसे बड़ा बांध

जवाहर सागर बांध (कोटाबूंदी राजस्थान )

कोटा बैराज बांध (कोटा राजस्थान)

राज्य में सर्वाधिक अवनालिका इसके द्वारा बीहड़ भूमि का निर्माण किया जाता है। जिसे स्थानीय भाषा में डांग प्रदेश कहा जाता है।

चंबल के दाएं और सबसे लंबी सहायक नदी कालीसिंध, कालीसिंध आहू के संगम को झालावाड़ में सामेला कहा जाता है। इसके किनारे पर गागरोन का किला स्थित है।

कालीसिंध नदी – मध्यप्रदेश के देवास से निकलकर झालावाड़, बारां जिले में बहती हुई नानेरा के निकट चंबल नदी में मिलती है। इसकी प्रमुख सहायक नदी परवन, उजाड़, निवाज, आहू है।

पार्वती नदी – मध्य प्रदेश के सिरोर से निकलकर बारां जिले में बहती हुई सवाई माधोपुर जिले के पालिया के निकट चंबल नदी में मिलती है। इसकी सहायक नदी अंधेरी, रेतरी, अहेली, कूल

मेज नदी- उद्गम बिजोलिया, भीलवाड़ा कोटा व बूंदी की सीमा पर चंबल में विलय हो जाती हैं।

चाकण नदी – उद्गम बूंदी की पहाड़ियां करणपुरा सवाई माधोपुर के निकट चंबल में विलय चाकण नदी की सहायक घोड़ा पछाड़ नदी पर गड़दड़ा बांध निर्मित है।

मांगली नदी – उद्गम भीलवाड़ा, भीलवाड़ा -बूंदी जिले में बहती हुई बूंदी में मेज नदी में विलय

बामनी नदी – उद्गम चित्तौड़गढ़ के बेगू तहसील के हीरापुरा गांव से इसे ब्रह्माणी के नाम से भी जाना जाता है। यह

भैंसरोडगढ़ – चित्तौड़गढ़ में चंबल नदी में अपना जल मिलाती है।

कालीसिंध नदी – उद्गम देवास मध्य प्रदेश राजस्थान में झालावाड़ जिले से प्रवेश कोटा जिले में नारेरा नामक स्थान पर चंबल में विलय कालीसिंध नदी पर कोटा में हरिश्चंद्र बांध बनाया गया है।

आहू नदी – उद्गम मध्य प्रदेश राजस्थान में प्रवेश झालावाड़ कालीसिंध की सहायक नदी कालीसिंध आहू के संगम को झालावाड़ में सामेला कहा जाता है। इसके किनारे गागरोन का दुर्ग अवस्थित है।

परवन नदी – उदगम मध्य प्रदेश राजस्थान में परवन नदी झालावाड़ जिले के मनोहर थाना तहसील के खरीबोर नामक स्थान से प्रवेश करती है। कोटा बारां जिले के समीप यह नदी कालीसिंध नदी में अपना जल मिलाती है।

चंद्रभागा नदी – उद्गम झालावाड़ जिले के सेमली गांव से संगम झालावाड़ के खाडिया गांव के निकट कालीसिंध नदी में विलि पार्वती नदी उद्गम मध्य प्रदेश

पार्वती नदी – राजस्थान व मध्य प्रदेश की सीमा दो बार बनाती है। सवाई माधोपुर में चंबल में विलीन सहायक नदियां अंधेरी, रेतड़ी, ल्हासी, बैथली, विलास

Share your love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!